LATEST ARTICLES

हाई ब्लड प्रेशर के लक्षण, कारण और घरेलू उपाय | High Blood Pressure Symptoms, Causes and Home Remedies in Hindi

आज की भागदौड़ भरी जिंदगी में ब्लड प्रेशर की समस्या एक आम बात है।इस बीमारी से लगभग आधी दुनिया ग्रस्त है। हाई ब्लड प्रेशर यानी हाइपरटेंशन यह एक तरह का साइलेंट किलर भी है। यह बीमारी अपने साथ-साथ कई अन्य बीमारियों को भी बढ़ावा देता है। ब्लड प्रेशर का बढ़ना स्वास्थ्य के लिए बहुत ज्यादा खतरनाक साबित हो सकता है, इसलिए डॉक्टर ब्लड प्रेशर को कंट्रोल करने की सलाह देते हैं और इसके साथ ही काफी हद तक अपनी लाइफ स्टाइल और दिनचर्या में बदलाव करके इस समस्या को काम किया जा सकता है।

हाई ब्लड प्रेशर के लक्षण, कारण और घरेलू उपाय | High Blood Pressure Symptoms, Causes and Home Remedies in Hindi
High Blood Pressure Symptoms, Causes and Home Remedies in Hindi

उच्च रक्तचाप क्या है ?

What is High Blood Pressure in Hindi ?

हमारा हृदय धमनियों के द्वारा पूरे शरीर में रक्त का संचार करता है, शरीर की धमनियों में बहने वाले खून का एक निश्चित दबाव (Pressure) होता है जब यह दबाव अधिक हो जाता है तो हमारी धमनियां व नसों पर ज्यादा प्रेशर पड़ता है और इस दबाव को संभालने के लिए हृदय को अधिक काम करना पड़ता है और ऐसी स्थिति को उच्च रक्तचाप कहते हैं।

 
उच्च रक्तचाप लगातार रहने से हृदय काम करना बंद कर सकता है, ज्यादा उक्त उच्च रक्तचाप रहने से शरीर को काफी हानि पहुंच सकती है हार्ट भी फेल हो सकता है।

आज हम बात करने जा रहे हैं उच्च रक्तचाप के प्रकार, लक्षण, कारण, ओर इनके घरेलू उपाय के बारे में

Today we are talking about Types, Symptoms, Causes and Home Remedies of High Blood Pressure.



उच्च रक्तचाप के प्रकार :

Type of High Blood Pressure :

1. प्राइमरी (Primiry) :-

उच्च रक्तचाप का यह शुरुआती प्रकार है। यह समस्या उम्र बढ़ने के साथ-साथ  उत्पन्न होती है। अधिकतर लोग इस समस्या से ग्रस्त होते हैं।

2. सेकेंडरी (Secondry) :-

सेकेंडरी उच्च रक्तचाप अनियमित दिनचर्या व खानपान अथवा किसी अन्य बीमारी के दवाओं के सेवन के दुष्प्रभाव से ब्लड प्रेशर के बढ़ने को इस श्रेणी में रखा जाता है।
दोनों ही अवस्था में ब्लड प्रेशर की दवाइयों का बंद करना सही नहीं है।


उच्च रक्तचाप होने के कारण :

Causes of High Blood Pressure in Hindi :

हमारे शरीर में किसी भी तरह की कोई बीमारी या समस्या बिना किसी कारण के नहीं हो सकती। हाई ब्लड प्रेशर होने के कारण अगर हमें पता हो तो हम काफी हद तक इससे बच सकते हैं। 
आईये जानते है रक्तचाप होने के कारण :
  • तनाव | Stress | Tension
  • धूम्रपान | Smoking
  • अधिक नमक का सेवन | High Salt Intake 
  • शराब | Alcohol  
  • थायराइड | Thyroid
  • शारीरिक गतिविधियों में कमी | Decrease in Physical Activity 
  • गुर्दों से जुड़ा रोग | Renal Disease 
  • एडविना | Edwina
  • नींद का विकार | Sleep Disorder 
  • अनुवांशिक | Genetic 
हाई बीपी के कारण जानने के बाद जानते हैं इसके लक्षण


उच्च रक्तचाप के लक्षण :

Symptoms of High Blood Pressure in Hindi:

उच्च रक्तचाप एक ऐसी समस्या है जिसे साइलेंट किलर भी कहा जाता है। क्योंकि यह बीमारी बिना दस्तक के ही हमारे शरीर में आ जाती है और अपने साथ कई अन्य स्वास्थ्य संबंधित समस्याओं को लेकर आती है आइए जानते हैं हाई बीपी के लक्षण जिससे इसकी पहचान की जा सके :
  • सर दर्द होना | Headache
  • चक्कर आना | Dizziness
  • नजर का कमजोर होना | Poor Eyesight
  • सांस लेने में दिक्कत | Breathing Problem
  • नाक से खून निकलना | Nose Bleeding 
  • कमजोरी महसूस होना | Feeling of Weakness 
  • सीने में दर्द होना | Chest Pain
  • गर्दन के पीछे दर्द होना | Pain in the Back Side of Neck 
के लक्षण जानने के बाद में जानते हैं इसके घरेलू उपाय :


हाई ब्लड प्रेशर के घरेलु उपाय :

Home Remedies for High Blood Pressure :

हाई ब्लड प्रेसर के लक्षण कारण जानने के बाद सबसे महत्वपूर्ण है इसका उपचार जानना। घरेलू नुस्खे व हमारे रसोई घर में मौजूद सामग्री के द्वारा हम कुछ ऐसे कारगर और लाभदायक घरेलू उपचार कर सकते हैं जिससे हम काफी हद तक हाई ब्लड प्रेशर को नियंत्रित कर सकते हैं।


1. लहसुन व शहद | Garlic and Honey :

लहसून का इस्तेमाल ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करने में किया जा सकता है लहसुन में बायोएक्टिव सल्फर के रूप में एस एल सिस्टीन पाया जाता है, यह हाई ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करने में सहायक होता है।
  • दिन में दो बार एक चम्मच शहद के साथ लहसुन की एक कली ले सकते हैं।
  • खाना बनाने में लहसुन का प्रयोग कर सकते हैं।


2. आंवले का रस | Amla Juice :

आंवले का रस हमारे स्किन, हेयर, हार्ट आदि को स्वस्थ रखने में लाभदायक होता है। आंवला के अंदर हाइपोलिपिडेमिक और एंटी हाइपरएक्टिव प्रभावित होते हैं यह दोनों बीपी को नियंत्रित करने में मदद करते हैं। यह पेट में कोलेस्ट्रोल को कंट्रोल करके ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करने में कारगर है।
  • रोज सुबह खाली पेट एक गिलास पानी में दो चम्मच आंवले का रस मिलाकर पीना चाहिए।


3. मेथी | Fenugreek :

मेथी का उपयोग ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करने में किया जाता है यह वजन को बढ़ाने वाले कोलेस्ट्रोल को कम करके ब्लड प्रेशर को भी कंट्रोल करता है। मेथी में एंटी हाइपरटेंशन प्रभावी रूप से पाए जाते हैं और यही वजह है की मेथी का उपयोग बढे हुए ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करने में किया जाता है।
  • रात को एक गिलास पानी के अंदर आधा चम्मच मेथी डालकर भिगोकर रख दे।  फिर सुबह इस पानी को छानकर पीना चाहिए।
  • मेथी दाना का पाउडर बनाकर चौथाई चम्मच पाउडर रात को सोने से पहले गर्म पानी के साथ ले सकते हैं।


4. शहद | Honey :

प्रकृति के द्वारा दिया गया एक कीमती औषधि है शहद। यह हमारी त्वचा, डाइजेशन, आंखें और स्वस्थ के लिए हर तरह से स्वास्थ्यवर्धक है। उच्च रक्तचाप को नियंत्रित रखने में शहद काफी मदद करता है। हाई ब्लड प्रेशर की स्थिति में शहद का सेवन करने से तत्काल रूप से ब्लड प्रेशर कम होता है।
  • एक गिलास गुनगुने पानी में दो चम्मच शहद मिलाकर इसे पी सकते हैं।


5. प्याज का रस | Onion Juice :

प्याज में मौजूद कंपाउंड हाई ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करने में काफी मददगार होता है। एक रिसर्च के मुताबिक प्याज के अर्क का महीने भर सेवन करने से ब्लड प्रेशर काफी कंट्रोल में आ जाता है।
  • आधा चम्मच प्याज के रस को समान मात्रा में शहद के साथ मिलाकर दिन में दो बार ले सकते हैं।


6. अदरक | Ginger :

अदरक का इस्तेमाल हाई ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करने में किया जाता है अदरक में हाइपोटेंसिव प्रभाव रूप में होता है जो रक्तचाप को कम करने में मदद करता है। एक रिसर्च के मुताबिक 6 हफ्ते तक इसका सेवन करने से ब्लड प्रेशर काफी हद तक नियंत्रित हो जाता है। इसका इस्तेमाल मधुमेह यानी डायबिटीज के रोगी भी कर सकते हैं।
  • एक चौथाई चम्मच अदरक के पाउडर को एक कप पानी के साथ ले सकते हैं।
  • अदरक को कूटकर पानी में उबालकर इस्तेमाल कर सकते हैं।
  • अदरक की चाय बनाकर इसे नियमित रूप से पी सकते है।


7. दालचीनी | Cinnamon :

दालचीनी के इस्तेमाल से उच्च रक्तचाप की समस्या से छुटकारा पाया जा सकता है। एक रिसर्च के अनुसार दालचीनी हाई पोटेंशियल सप्लीमेंट की तरह प्रभावी होता है जो उच्च रक्तचाप को कम करने में काफी मदद करता है।
  • चुटकी भर दालचीनी पाउडर अथवा दालचीनी का छोटा सा टुकड़ा खाना बनाने में इस्तेमाल कर सकते हैं।
  • दालचीनी के पाउडर को गर्म पानी में मिलाकर भी पी सकते हैं।


8. नींबू | Lemon :

हाई ब्लड प्रेशर से बचने अथवा गर्मी की वजह से बड़े हुए ब्लड प्रेशर को संतुलित करने में नींबू काफी मददगार होता है। एक रिसर्च के अनुसार नियमित रूप से नींबू व शहद के पानी का सेवन और नियमित रूप से टहलने से रक्तचाप को संतुलित करता हैं।
  • हल्के गुनगुने पानी में नींबू का रस डालकर इसका सेवन कर सकते हैं।
  • सुबह खाली पेट गर्म पानी में नींबू और शहद मिलाकर भी कर सकते हैं।


9. आलू | Potato :

आलू से रक्तचाप को काफी हद तक कंट्रोल में किया जा सकता है। आलू में पर्याप्त मात्रा में पोटेशियम पाया जाता है। यह हाई ब्लड प्रेशर को काफी हद तक कम करने में मदद करता है। उच्च रक्तचाप के रोगी को आलू के साथ नमक का सेवन नहीं करना चाहिए।


10. गाजर | Carrot :

गाजर में मौजूद फाइबर, पोटेशियम, विटामिन सी सहित अन्य पोषक तत्व ब्लड प्रेशर को कम करने में सहायक होते हैं। गाजर के रस का सेवन गुर्दे व हृदय के लिए फायदेमंद होता है, और साथ में उच्च रक्तचाप को नियंत्रित करने के लिए इसका सेवन किया जाता है। उच्च रक्तचाप के रोगी को गाजर के जूस का सेवन बिना नमक के करना चाहिए। गाजर के जूस में काली मिर्च मिला सकते हैं।


11. केला | Banana :

हाई ब्लड प्रेशर के उपचार में केले का भी सेवन किया जा सकता है। केले में पोटेशियम प्रचुर मात्रा में होता है, जो रक्तचाप को कम करने में मदद करता है। रोजाना 1 - 2  केले का सेवन करना चाहिए।


उच्च रक्तचाप हाई ब्लड प्रेशर को दूर करने के लिए कुछ खास टिप्स

Some Spcial Tips to Overcome High Blood Pressure High Blood Pressure

उच्च रक्तचाप यानी हाई ब्लड प्रेशर को नियंत्रित रखने के लिए हमारी दिनचर्या में उचित बदलाव करना जरूरी है तो आइए जानते हैं किन किन बातों का ध्यान में रखकर हम अपने दिनचर्या को नियमित करें :-

1. धूम्रपान | Smoking :

धूम्रपान हार्ट को क्षति पहुंचाता है। इसलिए हाई ब्लड प्रेशर के रोगियों को धूम्रपान नहीं करना चाहिए।


2. शरीर का वजन | Overweight :

शरीर का बढ़ता हुआ वजन उच्च रक्तचाप के साथ-साथ कई अन्य बीमारियों का न्योत देता है, इसलिए अपने शरीर का वजन बढ़ने ना दें।

3. योग | Yoga :

योग एक ऐसा तरीका है जो आपके तनाव को दूर करके रक्तचाप को नियंत्रित कर सकता है। योग करने से शरीर रोग मुक्त व स्वस्थ होता है।इसके साथ मन भी प्रसन्न होता है। इसलिए नियमित रूप से योग करना चाहिए।


4. भोजन | Diet :

हाई ब्लड प्रेशर को कम करने के लिए अपनी दिनचर्या में फल, सब्जी, कम वसा आधारित दूध के खाद्य पदार्थ व बिना चर्बी वाले भोजन का सेवन करना चाहिए। ऐसे में नमक का सेवन भी कम कर देना चाहिए, साथ मे तैलीय व मिर्च मसालों का सेवन भी कम करना चाहिए।

5. शराब | Alcohol :

शराब का अधिक सेवन करने से उच्च रक्तचाप का खतरा बहुत बढ़ जाता है। अगर किसी में हाई ब्लड प्रेशर के लक्षण दिखाई देते है तो उन्हें शराब से दूर रहना चाहिए।


6. तनाव | Stress | Tension :

आजकल की लाइफ स्टाइल में हर कोई तनाव से ग्रसित है, ऐसे में ब्लड प्रेशर की समस्या होने की संभावना बहुत ज्यादा बढ़ जाती हैं। इसलिए उच्च रक्तचाप से निजात पाने के लिए अपने मानसिक रूप से तनाव को नियंत्रित रखना जरूरी है। इसके लिए आप योग, संगीत व अपनी हॉबी के हिसाब से कुछ भी कार्य कर सकते हैं, जिससे आपको तनाव से मुक्ति मिलती हो।


हाई ब्लड प्रेशर एक ऐसी समस्या है, जिसे पूरी तरह से समझ कर घरेलू उपाय व दिनचर्या में परिवर्तन करके काफी हद तक इस को नियंत्रण में ला सकते हैं। हाई ब्लड प्रेशर होने पर डॉक्टर से सलाह जरूर करें और डॉक्टर के द्वारा बताए गए दवाओं का सेवन नियमित रूप से करना चाहिए।


हाई ब्लड प्रेशर के बारे में पूछे जाने वाले सामान्य सवाल और उनके जवाब

Frequently Asked Questions and Answers to High Blood Pressure


Q ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करना कब मुश्किल हो जाता है ?
    When does it Become Difficult to Control Blood Pressure ?
A रेजिस्टेंट हाइपरटेंशन में ब्लड प्रेशर 150/100mmHg से ऊपर हो जाता है ऐसी स्थिति में दवाई लेने के बाद भी कंट्रोल होने में मुश्किल होता है।


Q ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करने में कितना समय लगता है ?
    How long does it take to control Blood Pressure ?
हाई बीपी को नियंत्रित करने में लगने वाले समय का अंदाजा ब्लड प्रेशर के रोगी के दिनचर्या व शारीरिक स्वास्थ्य पर निर्भर करता है। हाई ब्लड प्रेशर के लक्षणों को समझ कर, दिनचर्या में बदलाव व हाई बीपी की दवा का सेवन करने के बाद 1 से 2 हफ्ते नॉर्मल होने में लग सकते हैं।


Q क्या हाई ब्लड प्रेशर में नाक से खून बह सकता है ?
    Can high Blood Pressure Cause Nasal Bleeding ?
A नाक से खून बहना हाई ब्लड प्रेशर का लक्षण हो सकता है। ऐसे में एक नाक से खून भी बहने लग सकता है।


Q हाई ब्लड प्रेशर की अवस्था में डॉक्टर से संपर्क कब करना चाहिए ?
    When to Contact a Doctor in the Event of High Blood Pressure ?
A उच्च रक्तचाप के लक्षणों को समझकर घरेलू उपाय आजमाने के साथ डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए। डॉक्टर बीपी के सिंपटम्स के आधार पर आपकी दिनचर्या में बदलाव करने की सलाह देते हैं।


यह आर्टिकल आपको कैसा लगा इसके बारे में आप हमें कमेंट करके जरूर बताएं व इसके साथ ही आपको स्वास्थ्य से संबंधित कुछ पूछना हो तो आप हमें कमेंट करके पूछ सकते हैं हमारी पूरी कोशिश रहेगी कि हम आपको सही व सटीक जानकारी उपलब्ध करवाएं।

यह भी पढ़ें - Also Read It :

कोई टिप्पणी नहीं

Welcome to India's Leading Health Fitness and Lifestyle Website...